‘राइट टू राइड’ साइकिल को परिवहन के विकल्प रूप में स्थापित करने का प्रयास

हीरो साइकिल्स ने देश में साइकलिंग को स्थायी परिवहन के रूप में बढ़ावा देने और इसे सामाजिक, आर्थिक एवं पर्यावरणीय फायदों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए नीति आयोग के साथ साझेदारी कर ‘राइट टू राइड’ रैली का रविवार को आयोजन किया।

संयुक्त राष्ट्र की ओर से निर्धारित विश्व साइकिल दिवस यानी दो जून को इंडिया गेट पर आयोजित इस कार्यक्रम में महिलाओं, पुरुषों एवं बच्चों सहित 500 से अधिक साइकलिस्ट शामिल हुए थे। हीरो साइकिल्स के अधिकारियों ने रविवार सुबह छह बजे 10 किलोमीटर की इस रोचक रैली की शुरुआत की।

हीरो साइकिल्स के प्रवक्ता ने कहा कि पर्यावरण के अनुकूल परिवहन के इस साधन के बारे में लोगों को जागरूक बनाने के लिए यह आयोजन किया गया। गौरतलब है कि जनवरी, 2019 में ‘द एनर्जी एंड रिसोर्स इंस्टिट्यूट (टेरी) ने एक अध्ययन जारी किया था जिसके अनुसार छोटी दूरी की यात्रा के लिए दोपहिया एवं चार पहिया वाहनों की बजाय साइकल का उपयोग किया जाए तो सालाना 1,800 अरब रुपये की बचत की जा सकती है।

हीरो मोटर्स के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक पंकज एम मुंजाल ने कहा कि साइकलिंग संयुक्त राष्ट्र के कई सतत विकास लक्ष्यों को हासिल करने में मददगार साबित हो सकती है। उन्होंने कहा, “साइकिल चलाने के कई प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष फायदे हैं। इस रैली के माध्यम से हम ऐसे कारकों की तरफ लोगों का ध्यान खींचना चाहते हैं जो देश में साइकलिंग की संस्कृति को बढ़ावा देने में आज भी बड़ी बाधा हैं। हम लोगों को बताना चाहते हैं कि साइकिल सिर्फ निजी चुनाव नहीं है, बल्कि यह समुदायों को भी आपस में जोड़ती है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.