भारत, सऊदी अरब के बीच सुरक्षा मुद्दों पर सहयोग बढ़ रहा है: प्रधानमंत्री मोदी

India-Saudi Arabia friendship. (PIC FROM TWITTER @narendramodi)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत और सऊदी अरब के बीच आतंकवाद से मुकाबला करने सहित सुरक्षा के विभिन्न मुद्दों पर आपसी सहयोग बहुत अच्छी तरह आगे बढ़ रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि दोनों ही देश अपने अपने पड़ोस को लेकर सुरक्षा संबंधी चिंताओं का सामना कर रहे हैं।

एक प्रमुख आर्थिक सम्मेलन में भाग लेने और सऊदी अरब के शीर्ष नेतृत्व के साथ बातचीत करने के लिए सोमवार की रात यहां पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने एक साक्षात्कार में यह टिप्पणी की जो मंगलवार को ‘‘अरब न्यूज’’ में प्रकाशित हुआ है।

मोदी ने किसी भी देश का जिक्र किए बिना कहा, ‘‘मेरा मानना है कि भारत और सऊदी अरब जैसी एशियाई शक्तियां अपने अपने पड़ोस में समान रूप से सुरक्षा चिंताओं को साझा करती हैं।’’

उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल की इस खाड़ी देश की यात्रा का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि विशेष रूप से आतंकवाद से लड़ने, सुरक्षा और रणनीतिक मुद्दों के क्षेत्र में हमारा सहयोग बहुत अच्छी तरह से आगे बढ़ रहा है। मेरे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने अभी हाल ही में रियाद का दौरा किया, जो बेहद सार्थक रहा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी, रक्षा सहयोग पर एक संयुक्त समिति है जो नियमित बैठकें करती है। हमने रक्षा और सुरक्षा के क्षेत्र में आपसी हित और सहयोग के कई क्षेत्रों की पहचान की है।’’

मोदी ने कहा कि दोनों देश सुरक्षा सहयोग, रक्षा उद्योगों में सहयोग पर समझौते करने की प्रक्रिया में हैं और एक व्यापक सुरक्षा संवाद तंत्र बनाने पर भी दोनों देश सहमत हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि असमानता दूर करने और सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए भारत और सऊदी अरब जी20 के तहत मिलकर काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि एक रणनीतिक भागीदारी परिषद पर एक समझौते पर हस्ताक्षर के साथ विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंध और मजबूत होंगे।

गौरतलब है कि सऊदी अरब, पाकिस्तान का एक प्रमुख सहयोगी है। पाकिस्तान पर आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने का आरोप है।

पाकिस्तान के एक आतंकी समूह द्वारा जनवरी 2016 में पठानकोट में वायु सेना के एक ठिकाने पर किए गए हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के बीच वार्ता बंद है। भारत का कहना है कि वार्ता और आतंकवाद एक साथ नहीं चल सकते।

भारत द्वारा अगस्त में जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म किये जाने के बाद पाकिस्तान ने उसके साथ अपने राजनयिक संबंधों को कमतर कर दिया और भारतीय राजदूत को निष्कासित कर दिया।

कश्मीर मुद्दे पर सऊदी अरब का समर्थन हासिल करने की कोशिश में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कई बार रियाद जा चुके हैं।

 

TEXT- PTI 29 OCT 2019

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.