ट्रंप की यूक्रेन, चीन से बाइडेन के खिलाफ कार्रवाई करने की खुले तौर पर अपील

U.S. President Donald Trump (PIC BY REUTERS)

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में उनके संभावित प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन के खिलाफ जांच करने की चीन और यूक्रेन से सार्वजनिक तौर पर अपील की।

इस अपील के जरिए उन्होंने डेमोक्रेट्स पर कटाक्ष करने का प्रयास किया है जो चुनाव में विदेशी हस्तक्षेप को बढ़ावा देने को लेकर उनके खिलाफ महाभियोग चलाने की मांग कर रहे हैं।

फ्लोरिडा में ट्रंप ने उन पर आरोप लगाने वालों को ‘‘सनकी” कहा जो ‘‘महाभियोग की अटकलों” को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने उस जांच का रुख मोड़ने की कोशिश की जो उन्हें तीसरा ऐसा राष्ट्रपति बना सकती है जिस पर प्रतिनिधि सभा में महाभियोग चला हो और जिसे सीनेट में सुनवाई का सामना करना पड़ेगा।

प्रतिनिधि सभा में महाभियोग की जांच की अगुवाई कर रहे डेमोक्रेट एडम स्किफ ने कहा कि ट्रंप कानून की आड़ लेकर बिना किसी सजा के डर के काम कर रहे थे।

स्किफ ने कहा, “एक बार फिर अमेरिकी राष्ट्रपति हमारे चुनावों में किसी दूसरे देश से हस्तक्षेप करने की अपील कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “यह हमारे चुनाव, राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा है और इस निकाय के प्रत्येक सदस्य, डेमोक्रेट और समान सोच रखने वाले रिपब्लिकन को इसकी निंदा करनी चाहिए।”

विदेश मंत्रालय के पूर्व राजनयिक द्वारा यूक्रेन घोटाले में उनकी भूमिका पर गवाही देने के साथ ही ट्रंप ने बाइडेन की जांच करने के लिए यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की और चीनी नेता शी चिनफिंग से सार्वजनिक तौर पर अपील कर अपने रुख को और दृढ़ता से रखा।

ट्रंप ने व्हाइट हाउस के बाहर संवाददाताओं से कहा, “मैं कहूंगा कि राष्ट्रपति जेलेंस्की, अगर आपकी जगह मैं होता तो मैं बाइडेन परिवार के खिलाफ जांच शुरू करने की सिफारिश करता।”

उन्होंने कहा, “इसी तरह चीन को भी बाइडेन परिवार की जांच करनी चाहिए क्योंकि जो चीन में हुआ वह यूक्रेन में हुए वाकये जितना ही बुरा था।”

यह पूछने पर कि क्या वह शी से ऐसा करने के लिए कहेंगे, ट्रंप ने कहा, “यह निश्चित तौर पर कुछ ऐसा है जिसके बारे में हम सोचना शुरू कर सकते हैं।”

ट्रंप ने बृहस्पतिवार को कहा था कि भ्रष्टाचार की जांच करना उनका कर्तव्य है।

ट्रंप ने आरोप लगाया कि बाइडेन ने 2014 में उपराष्ट्रपति के तौर पर अपने बेटे हंटर के कारोबारी साझेदार यूक्रेनी गैस कंपनी से जुड़ी भ्रष्टाचार की जांच करने से यूक्रेन को रोका था और इसके लिए अमेरिका से मिलने वाली वित्तीय सहायता का लाभ उठाया था।

हालांकि यूक्रेन के रिकॉर्ड दिखाते हैं कि ऐसी किसी जांच को बाधित नहीं किया गया था।

वहीं चीन में मीडिया में आई कई खबरों में दावा किया गया था कि हंटन बाइडेन के एक कारोबारी सहयोगी ने निवेश लाइसेंस हासिल किया था जिसमें बाइडेन का नाम नहीं था और इससे लाखों डॉलर कमाए गए।

TEXT – 04 OCT 2019 एएफपी/PTI

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.